राधा माता की आरती Radha Mata Aarti - Aarti Shri Vrishbhanu Lali Ki

M Prajapat
0
राधा माता की आरती Radha Mata Aarti - Aarti Shri Vrishbhanu Lali Ki
Aarti Shri Vrishbhanu Lali Ki

राधा माता की आरती Radha Mata Aarti - Aarti Shri Vrishbhanu Lali Ki

॥ श्री राधा माता जी की आरती - 1 ॥

आरति श्रीवृषभानुलली की।
सत-चित-आनन्द कन्द-कली की॥

भयभन्जिनि भव-सागर-तारिणि,
पाप-ताप-कलि-कल्मष-हारिणि,
दिव्यधाम गोलोक-विहारिणि,
जनपालिनि जगजननि भली की॥

आरति श्रीवृषभानुलली की।
सत-चित-आनन्द कन्द-कली की॥

अखिल विश्व-आनन्द-विधायिनि,
मंगलमयी सुमंगलदायिनि,
नन्दनन्दन-पदप्रेम प्रदायिनि,
अमिय-राग-रस रंग-रली की॥

आरति श्रीवृषभानुलली की।
सत-चित-आनन्द कन्द-कली की॥

नित्यानन्दमयी आह्लादिनि,
आनन्दघन-आनन्द-प्रसाधिनि,
रसमयि, रसमय-मन-उन्मादिनि,
सरस कमलिनी कृष्ण-अली की॥

आरति श्रीवृषभानुलली की।
सत-चित-आनन्द कन्द-कली की॥

नित्य निकुन्जेश्वरि राजेश्वरि,
परम प्रेमरूपा परमेश्वरि,
गोपिगणाश्रयि गोपिजनेश्वरि,
विमल विचित्र भाव-अवली की॥

आरति श्रीवृषभानुलली की।
सत-चित-आनन्द कन्द-कली की॥

॥ श्री राधा माता जी की आरती - 2 ॥

आरती श्री वृषभानु लली की, मंजुल मूर्ति मोहन ममता की...आरती श्री वृषभानु लली की।

त्रिविध तापयुत संसृति नाशिनि, विमल विवेकविराग विकासिनि ।
पावन प्रभु पद प्रीति प्रकाशिनि, सुन्दरतम छवि सुन्दरता की ॥
॥ आरती श्री वृषभानु लली की, मंजुल मूर्ति मोहन ममता की ॥

मुनि मन मोहन मोहन मोहनि, मधुर मनोहर मूरति सोहनि ।
अविरलप्रेम अमिय रस दोहनि, प्रिय अति सदा सखी ललिता की ॥
॥ आरती श्री वृषभानु लली की, मंजुल मूर्ति मोहन ममता की ॥

संतत सेव्य सत मुनि जनकी, आकर अमित दिव्यगुन गनकी ।
आकर्षिणी कृष्ण तन मनकी, अति अमूल्य सम्पति समता की ॥
॥ आरती श्री वृषभानु लली की, मंजुल मूर्ति मोहन ममता की ॥

कृष्णात्मिका, कृष्ण सहचारिणि, चिन्मयवृन्दा विपिन विहारिणि ।
जगजननि जग दुखनिवारिणि, आदि अनादिशक्ति विभुता की ॥
॥ आरती श्री वृषभानु लली की, मंजुल मूर्ति मोहन ममता की ॥

Video: Aarti Shri Vrishbhanu Lali Ki


Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)

#buttons=(Ok, Go it!) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Ok, Go it!